Wednesday, August 17, 2016

Manmarziyan...




आज एक मुद्दत के बाद खुद के साथ बैठे हैं... 
सुकून के कुछ पलों को पकडे बैठे हैं.. 
तनहा भले ही हैं पर तन्हाई का नामोनिशां नहीं... 
कुछ यूँ माहौल बना कर बैठे हैं.. 
सितारों सी चमकती यह रौशनी, रूहः को छूती ये धुन... 
लबों पे अंगूर का प्याला और दिल में ख्याल तुम्हारा... 
आज एक मुद्दत के बाद खुद के साथ बैठे हैं... 



Aaj ek muddat ke baad khud ke saath baithe hain...
Sukoon ke kuch palon ko pakde baithe hain..
Tanha bhale hi hain par tanhayi ka naamonishan nhin..
Kuch yuh mahaul bna kar baithe hain..
Sitaron si chamkati yeh roshni, ruhh ko chooti huyi yeh dhun...
Laboon pe angooron ka payala aur dil mein khayal tumhara... 
Aaj ek muddat ke baad khud ke saath baithe hain..